पाकिस्तान की संसद में क्यों रखी जाती है हनुमान जी की गदा? जानिए मजेदार किस्सा

दोस्तों आज हम आपके लिए एक ऐसी पोस्ट लाये है जिसे पड़ने के बाद आप भी यकीं नहीं करेंगे आप को दे की दुनिया में ऐसी कई विचित्र बातें होती रहती हैं जिनसे सुनकर कोई भी  हंस पड़ता है आप बता दे की पहले से सोशल मीडिया पर एक तस्वीर जो बहुत ही तेजी से वायरल हो रही है जिसमें एक अदालत में जज के सामने गदा रखी है आप को बता दे की वो अदालत इण्डिया नहीं बल्कि हुकुमत-ए-पाकिस्तान के अदालत में रखी  है, जहां जज के सामने इस गदे को रखा जाता है. अब क्या भारत के लोग तो गदगद कि हमारे बजरंगबली के गदा को अब पाकिस्तानी भी पूजते हैं. पर अब सवाल ये है कि आखिर पाकिस्तान की संसद में क्यों रखी जाती है हनुमान जी की गदा,क्या है इसका राज तो चलिए हम आप को बताते है इसके बारे में .

पाकिस्तान की संसद में क्यों रखी जाती है हनुमान जी की गदा?

आपको बता दें कि पाकिस्तान की संसद में हनुमान जी की गदा रखी जाती है और ये बात पूरी तरह से सच है. हिंदू धर्म के अनुसार, इसे धारण करने के लिए क्रोध, लालच, अहंकार, वासना पर पूरी तरह से नियंत्रण करना आना चाहिए. क्योंकि प्राचीन भारत में गदा को सिर्फ एक हथियार के रूप में नहीं बल्कि आदमी शासन करने की शक्ति का प्रतीक माना जाता है और आपको जानकर हैरानी होगी कि इस समय में भी कुछ ऐसा ही है फिर भले पाकिस्तान की इस संसद में रखी इस गदा का संबंध हनुमान जी के साथ हो ना या ना हो. सिर्फ पाकिस्तान ही नहीं बल्कि दुनिया के लगभग सभी लोकतांत्रिक देशों में इसी तरह की गदा विधानसभा के अंदर देखने को मिलती है. इसके रंह रूप देश के हिसाब से अलग-अलग होती है खासकर ब्रिटेन के अधीन रह चुके कॉमनवेल्थ राष्ट्रों के सदन में सभापति के आदे इस गदे को रखा जाता है.

जब आजादी से पहले भारत की संसद में भी गदा रखी जाती थी! लेकिन आजादी के बाद से गदा हटा दी गई! पर अब भी देश की कुछ विधानसभाओं में गदा रखी जाती है! जिनका स्वरूप थोड़ा अलग होता है!

आप को जानकारी के लिए बता दे की हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार हर देवी-देवताओं की पूजा के साथ-साथ उनकी सवारी और अस्त्र-शस्त्र की पूजा की जाती हैआप को ये भी बता दे की ऐसा कहा जाता था कि हनुमान जी को श्रीराम के बाद अगर कोई चीज प्यारी थी तो वो उनका गदा था जिसे वे हमेशा अपने साथ रखते थे.

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *