40 मिनट तक एक ही जगह पर रुकी रही ट्रेन, वजह पता चलते ही लोगों में दौड़ी ख़ुशी की लहर !

आप को तो ये पता ही हो ही जो लोग ट्रेन में सफर करते है उनको परेशानी तब बढ़ जाती है जब उन्हें काम से कहीं जाना हो और ट्रेन किसी कारण रुक जाती है. आप को ये जानकरी के लिए बता दे की हाल ही में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जहाँ लोगों को देर रात ऐसी ही परेशानी का सामना करना पड़ा, बता दे की देर रविवार रात दिल्ली से हावड़ा जाने वाली दादरी रेलवे स्टेशन पर अचानक रुक गयी.ये भी बता दे की लगभग 40 मिनट तक रुकी रही.जिसकी वजह से लोग बहुत ही ज्यादा परेशान हुए थे और काफी ज्यादा गुस्सा भी कर रहे थे. चलिए जानते हैं क्या है पूरा मामल और क्यों ट्रेन को रोककर रखा गया था.

रविवार को देर रात बीच स्टेशन पर रुकी ट्रेन


आप को बता दे की एक गर्भवती महिला इस ट्रेन में बैठ ‘गया’ जा रही थी कि लेकिन अचानक देर रात उस महिला के पेट में प्रसव पीड़ा होने लगी. बता दे की इस बात की खबर वहां के रेल कर्मचारियों को लगी तो वो बिना कुछ सोचे समझे ट्रेन को बीच स्टेशन पर रोक दिया और ये भी बता दे की फिर उस महिला के सारी सुविधा उपलब्ध करवाई.जानकारी के लिए भी बता दे की इस ट्रेन को लगभग 40 मिनट तक स्टेशन पर रोकना पड़ा.

गर्भवती महिला के प्रसव के कारण 40 मिनट तक ट्रेन को स्टेशन पर रोका

जानकारी के लिए ये बता दें कि ये महिला अपने पति के साथ गया जा रही थी और ये भी बता दे की बिहार के शेखूपुर गांव की रहने वाली है . जब ट्रेन गाजियाबाद स्टेशन से गुज़र रही थी कि अचानक उनकी पत्नी को प्रसव पीड़ा होने लगी. इस बात की सूचना उनके पति ने रेल कर्मचारियों को दी. जिसके बाद उन्होंने तुरंत इस बात की सूचना अगले दादरी स्टेशन के प्रभारी को दी. ये सब सुनते ही है कर्मचारी ने ट्रेन को रोक दिया

महिला ने ट्रेन में दिया बच्चे को जन्म

कर्मचारी ने महिला कि हालत को देखते हुए दादरी स्टेशन पर ही ट्रेन को रुकवा दिया. और ट्रेन के आते ही मौके पर एेंबुलेंस के साथ वहां एक महिला डॉक्टर भी पहुंची और फिर उसने महिला का ट्रेन में ही प्रसव करवाया. उसके बाद महिला ने एक स्वस्थ बेटे को जन्म दिया. इस बीच ट्रेन को 40 मिनट तक स्टेशन पर ही रुकना पड़ा.ये भी बता दे की ट्रेन की रुकने की वजह से लोग काफी गुस्से में आ गए थे.लेकिन जिसे इस बात का पता चल तो सबके चेहरे में काफी ख़ुशी दिखाई दी. महिला के डिलीवरी के बाद उस महला को rरात भर डॉक्टरों के अंडर रखा गया ताकि कुछ परेशानी न हो और फिर अगले दिन महिला को सही सलामत ‘गया’ भेज दिया गया.

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *